Mahatma gandhi ka janm kab kahan hua tha ( महात्मा गांधी का जन्म कहाँ हुआ था )

Mahatma gandhi ka janm kab kahan hua tha

Mahatma gandhi ka janm kab kahan hua tha : भारत (India) देश की आजादी की लड़ाई में बहुत से वीरो (freedom fighters) ने अपना योगदान (contribution) दिया था चाहे कितनी ही कठिनाईया आयी। लेकिन उन वीरो कभी हार नहीं मानी वह हमेशा अपने आदर्शों (disciplines) पर चलते रहे। लेकिन आज हम इस article में एक ऐसे वीर की बात करेंगे जो खुद एक आदर्श है न जाने कितने ही वीरो के। उनका नाम महात्मा गांधी जी है, 

महात्मा गाँधी जी अपने आप में एक ऐसे व्यक्तित्व वाले महात्मा है, जिन्होंने भारत देश का नाम सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशो (other countries) में भी कभी भी झुकने नहीं दिया यहाँ हम उनसे जुड़ी बातें जानेंगे की Mahatma gandhi ka janm kab kahan hua tha ।

महात्मा गांधी कौन थे?

महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) जी को देश का लीडर(leader) भी बोला जाता है उनका पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी(Mohandas Karamchand Gandhi) था। गांधी जी पेशे से एक Vakil or Advocate थे। महात्मा गाँधी अहिंसा या non-voilence पर विश्वास करने वाले इंसान थे उनका मानना था की किसी भी समस्या को लड़ाई किये बिना भी सुलझाया जा सकता है। इतने उच्च विचार वाले व्यक्ति को आप क्या कहेंगे “महात्मा” हेना जी है, इनके विचारों आदर्शो ने इन्हे एक आम इंसान से महापुरुष बनाया था। इनके विचार हमेशा हमारे बीच हमेशा जीवित रहेंगे।

Mahatma gandhi ka janm kab kahan hua tha

Mahatma gandhi ji ka janm kab kahan hua tha 

Mahatma gandhi ka janm kab kahan hua tha : गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को पोरबंदर (porbander) में हुआ था। गांधी जी के पिता का नाम करमचंद गांधी (Karamchand Gandhi) था और उनकी माता का नाम पुतलीबाई (Putlibai) थे वे एक धार्मिक महिला थी गांधी जी बचपन से ही बहुत बुद्धिमान व्यक्ति थे। उन्होंने Law में अपनी पढ़ाई पूरी करी थी और उसके बाद South Africa में भी जाकर अपनी एक साल की प्रैक्टिस की थी।

जब गाँधी जी साउथ अफ्रीका में थे तब उन्होंने वह पर भी भारत का सर झुकने नहीं दिया महात्मा गाँधी जी का धार्मिक चीज़ो में भी अत्यधिक रूचि थी उन्होंने साउथ अफ्रीका से religious में भी पढाई की थी। Mahatma gandhi ka janm kab kahan hua tha ये आपलोग अच्छे से जान गए होंगे।

महात्मा गांधी की मृत्य कब हुई थी ये जानने के लिए यहाँ क्लिक करें – महात्मा गांधी की मृत्य कब हुई थी

Gandhiji ko लोग महात्मा गांधी kyun कहने लगे?

जब गाँधी 1914 साउथ अफ्रीका छोड़ा तब world war I चल रहा था, ऐसे में उन्होंने apna कुछ समय अलग अलग countries में व्यतीत किया। 1915 में गांधी जी गुजरात अहमदाबाद पहुंचे वह उन्होंने अपना जीवन एक ashram में बिताना शुरू कर दिया वह गांधी जी भी औरों की तरह प्रार्थना करना(prayer), उपवास करना (fasting), लोगो को जागरूक करना (awareness), योग साधना (meditation) करना, ठीक इस tarah गांधीजी ने एक साधारण ज़िंदगी व्यतीत करनी शुरू कर दी। इन बातों को dekh कर लोगों ने उन्हें “महात्मा(mahatma) कहना शुरू कर दिया था, और इस महात्मा ने हमारे देश को आजादी (freedom) के साथ-साथ और बहुत कुछ दिया। 

Gandhiji के अनुयायी(follower)

महात्मा गांधी जी को मानने वाले लोग बहुत है जिन्हें गिना नहीं जा सकता उनके विचारों से, उनके काम करने के तरीके से भारत में ही nahi बल्कि दूर विदेशों में भी महात्मा गांधी को सभी अच्छे से जानते थे। उनकी सोच (thinking) से सभी लोग प्रभावित थे यहाँ हम उनमें से कुछ अनुयायी के बारे में बताने वाले है –

विनोबा भावे (Vinoba Bhave), डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद (Dr.Rajendra Prasad), जे बी कृपलानी (J.B.Kripalani), सरोजिनी नायडू (Sarojini Naidu), राजकुमारी अमृत कौर (Rajkumari Amrit Kaur), जमनालाल बजाज (Jamnalal Bajaj), मार्टिन लूथर किंग (Martin Luther King), अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein),

नेल्सन मंडेला (Nelson Mandela), जॉन लेनन (John Lennon), धर्मपाल (Dharampal), रविशंकर महाराज (Ravishankar Maharaj) etc. ऊपर हमे सिर्फ कुछ की बात की है लेकिन इन सब के बाद भी महात्मा gandhiji ने कईयों को प्रभावित (impress) किया था।

महात्मा gandhiji से जुड़े सभी andolan(Movement) 

महात्मा गांधी जी ने भारत देश को आजाद करने के लिए बहुत से अलग अलग तरह के आंदोलन किये। उनकी इस लीडरशिप quality ने हमारे देश को ब्रिटिश सरकार की 250 साल की गुलामी से आजादी दिलाई। 

गांधी जी ने देश को आजाद करने में जो योगदान दिया, जो struggle किया, उसको sirf कुछ शब्दों में बता पाना मुस्किल है। उन कोशिशों का ही ये नतीजा है, की आज हम इस आज़ाद भारत में आजादी की ज़िन्दगी जी रहे है और चैन की सास ले रहे है।

महात्मा गांधी ने 7 मुख्य आंदोलन किए थे –

  • Champaran (1917),
  • Kheda (1918)
  • Non-Cooperation Movement (1920)
  • Salt सत्याग्रह movement (1930)
  • Khilafat Movement (1919)
  • Quit India Movement (1942)

यह पढ़िए – महात्मा गाँधी जी के मृत्यु के बारे अनसूलझे तथ्य

महात्मा गांधी जी ने देश में क्या बदलाव किये 

  • महात्मा गाँधी ने देश में सफाई के महत्व के बारे में बताया की कैसे ज्यादातर बीमारिया गन्दगी के कारण फैलती है और उस से जुड़े कार्यो पर जोर दिया जैसे safai abhiyan चला के। 
  • गाँधी जी ने सभी भारतवासी लोगो को आज़ादी का सपना दिखाया और उसे पूरा कैसे करना है वो पथ पर चलना सिखाया। 
  • महात्मा गाँधी ने देसी चीज़ो (Indian products) के उपयोग को प्राथमिकता दी। और सभी को देश में ही बनी चीज़ो का उपयोग करने को कहा (boycott movement), उन्होंने लोगो को ब्रिटिश सरकार के आगे झुकने से मना किया, ब्रिटिश सरकार (British Government)  की बनी चीज़ो को यूज़ करने को भी मन किया, हर उस चीज़ को करने से रोका जो ब्रिटिश सरकार ने शुरू की थी ताकि ब्रिटिश सरकार के सारे पेच ढीले हो जाये। 
  • महात्मा गांधी जी environment को लेकर बहुत ही ज्यादा चिंतित थे हद से ज्यादा संसाधनों मतलब हमारे natural resources के उपयोग  को लेकर वो हमेशा लोगों को जागरूक करने का प्रयास करते रहते थे।
  • बेरोजगारी जैसे मुद्दों को लेकर भी गांधी जी चिंतित रहते थे की युवा डिग्री तो ले लेते है। लेकिन जॉब नहीं मिल पाती उनका मानना था कि युवाओं को सही तरह के प्रशिक्षण की अति आवश्यकता है। गांधी जी युवाओं को हमेशा यही सलाह देते थे की “किसी भी kaam को कम मत समझो, बल्कि हर काम में अपना अच्छा प्रदर्शन (performance) करने का प्रयास करते रहो”।

ये भी जाने –

महात्मा गांधी का कब और कहाँ जन्म हुआ था ?

महात्मा गांधी का जन्म पोरबंदर मे 2 अक्टूबर 1869 को हुआ था |

गांधी जी पहली बार जेल कब गए थे ?

गांधी जी पहली बार 10 अप्रैल 1919 को जेल गए थे क्योंकि उन्होंने रॉलट ऐक्ट के खिलाप सत्याग्रह किया था |

महात्मा गांधी के पिता और माता का क्या नाम था ?

`महात्मा गांधी के पिता का नाम करमचंद गांधी ओर उनके माता का नाम पुतलीबाई था |

महात्मा गांधी का बेटी का नाम

महात्मा गांधी के बेटी का नाम मेडेलीन था | महात्मा गांधी का लगाओ इनसे बहुत ज्यादा हो गया था ओर यही वजह से इनका नाम बाद मे मेडेलीन से मिराबेन हो गया था |

महात्मा गांधी के पिता क्या करते थे ?

महात्मा गांधी के पिता करमचंद गांधी पोरबंदर के स्थानीय शासक राजकुमार के दरबार मे दरबारी अधिकारी थे |

करमचंद गांधी के कितने पुत्र थे ?

करमचंद गांधी के चार पुत्र थे |
1. हरीलाल मोहनदास गांधी
2. रामदास गांधी
3. मणिलाल गांधी
4. देवदास गांधी

महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका कब गए थे ?

महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका 1893 मे वकालत करने गए थे |

आखिरी बातें

दोस्तों उम्मीद है आपको पता चल गया होगा की Mahatma gandhi ka janm kab kahan hua tha ( महात्मा गांधी का जन्म कहाँ हुआ था ) अगर आपके मन में अभी कोई सवाल है तो कृपया जरूर बातएं , हम आपका उत्तर देने के लिए हमेशा तैयार हैं।

Leave a Comment